आर्थरॉक्स कायाकल्प उपचार - आपकी दर्द मुक्त स्वस्थ जोडों के साथ नई यात्र

Dr Smita Naram's Mother

आज मैं आपको एक वास्तविक तथ्य बताने जा रहा हूं, जिसके लिए मैं प्रार्थना करता हूं कि वह आपकी आंखे खोल दें, क्योंकि इसने मेरी आंखे खोल दी है। हांल ही में मैं मुंबई के एक प्रतिष्ठित - आयुशक्ति आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केंद्र गया, उनके किसी एक डॉक्टर से मिलने। जो भी डॉक्टर के केबिन में आ रहे थे, उन मरीजों के चेहरे पर खुशी देखना बेहद अच्छा अनुभव था । मैं बेहद अचम्भित था, जब मैंने डॉक्टर के केबिन में आते हुए एक बूढी महिला को हल्की मुस्कान से साथ बेहद चुस्त और आत्मविश्वासी देखा। मैंने अपने दिमाग से कहा आयुर्वेद का क्या सही प्रदर्शन है । इस उम्र में भी, वह बेहद चुस्त है । मैं बेसब्री से उनके बारें में जानना चाहता था और कुछ ही पलों में मुझे पता चला कि वह आयुशक्ति के डॉक्टर की माँ है। मैं भूल गया था कि मैं यहाँ आयुशक्ति के डॉक्टर का इंटरव्यू लेने के लिए आया था पर इस आश्चर्यचकित चुस्त महिला से कुछ प्रश्न पूछने के लिए बेहद आसक्त था । 

मैं अपने आप को उनसे पूछने से रोक नहीं पाया, मैडम, आपकी उम्र क्या है ? मैं चौक गया था, जब उन्होने कहा कि वह 78 साल की है। इसिलिए पूछा, आप इतनी चुस्त और फुर्तीली कैसे है ? आप किसी दर्द से पीडित नहीं है ? आपका ब्ल्ड शुगर स्तर क्या है ? आपको इस उम्र में भी मधूमेह कैसे नहीं है ? 

आप क्या करती है ? आप क्या खाती है और आपकी जीवन शैली क्या है ? आप इस तरह से रहना कैसे नियंत्रण कर पाती है ? एक नटखट मुस्कान के साथ उन्होने कहा, क्या मैं आपके सभी प्रश्नों के उत्तर एक - एक कर दे सकती हूं ? 

फिर उन्होने कहा, ‘‘मेरी बेटी को डॉक्टर बनाकर मैंने जिंदगी का सबसे सही काम किया है।’’ मै मेरी बेटी और उसके सुप्रशिक्षित और अनुभवी डॉक्टरों की टीम को धन्यवाद देती हूं । वह जो कुछ भी सुझाव देते हैं उसका पालन करती हूं ।

 

जब मैं 62 की थी, मेरे जोडों में, विशेष रुप से घुटनों के जोडों में दर्द शुरु हो गया था ।

उस समय चलने और सिढियां चढने में कठिनाई होती थी । तब तुरंत मेरी बेटी ने मुझे नई आहार (डाइट) और कुछ हर्बल उपचार के साथ आयुशक्ति आर्थरॉक्स उपचार शुरु करने के लिए कहा । आप विश्वास नहीं करेंगे, एक महिने में ही मुझे घुटने के दर्द में 80% राहत मिली थी । उसके बाद मैंने दर्द को वापस आने से रोकने के लिए निर्देशित जडी बूटिया लेना जारी रखा । आज भी, बिना किसी घुटने के दर्द के मैं 2-3 घंटे लगातार खडी और चल सकती हूं । यह जडी बूटिया  बेहद प्रभावशाली है । 

उच्च ब्ल्ड शुगर से दूर रहने के लिए अपनी जीवन शैली पर ध्यान दें... आगे उन्होने कहा । मेरा हमेशा से मानना है कि आपका स्वास्थ्य आपके हाथ में है । 

अगर आप स्वास्थ्यवर्धक भोजन खायेंगे, मौसमी भोजन खायेंगे और मसालेदार भोजन व जंक  

 

फू ड से दूर रहेंगे, तो आप हमेशा के लिए अच्छा स्वास्थ्य पा सकेंगे । गुजराती परिवार की होने के नाते, हम सभी को बहुत मीठा जैसे गुड पापडी, बर्फी आदि खाने की आदत होती है । अगर आप कुछ हैवी खाते हैं, आहार को संतुलीत रखने के लिए, अगला भोजन हल्का खाना चाहिए । इसके अलावा, मैं अपने आप को काम में व्यस्त रखती हूं। जब मैं अपने अध्यापन (टीचिंग) के पेशे से सेवानिवृत्त हुई, मैंने बहुत सारी सामाजिक गतिविधियां करना शुरु कर दिया, ताकि मैं मानसिक और शारीरिक रुप से चुस्त रह सकूं । मुझे किताबें पढना बेहद पसंद है । यह मुझे खुशी देती है । इन सभी कारणों ने मुझे मेरे स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद की है । मैं जानती हूं कि दूनिया भर के कई डॉक्टर एलर्जी से ग्रस्त हैं । जो प्राकृतिक विषहरण उपचार (नैचरल डिटॉक्सिफिकेशन ट्रीटमेंट) के लिए आयुशक्ति केंद्र आ रहे हैं । 

आयुशक्ति डॉक्टरों ने उनकी स्वास्थ्य की स्थिति को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । 

 

आप क्या खाते हैं, आप कैसी जीवन शैली का पालन करते है ?

मेरे आयुशक्ति डॉक्टरों का कहना है कि 50% आपकी बिमारी दूर हो सकती है, अगर उचित आहार का पालन करें । यह बिल्कुल सच है । मैं बिना मसालेदार और बिना तले हुए भोजन के साथ आयुर्वेदिक भोजन (डाइट) का पालन करती हूं । कभी - कभी मैं थोडी बेईमानी कर लेती हूं । 

पिछले 15 सालों से, मैं अपनी सुबह की चाय के साथ 2 छोटी चम्मच अरंडी का तेल लेती हूं । मैं रोज ‘‘लहसून’’ की 2 फली को चबाती हूं जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए अच्छा है । हफ्ते में 3-4 बार ‘‘एक कप हल्दी दूध’’ पीती हूं। एक दूसरी  दिनचर्या है मैं रोज एक घंटा रोज चलती हूं । मंदिर जाती हूं, बाजार जाती हूं और कभी-कभी थोडा योगा भी करती हूं । मल्टी ग्रेन चपाती, चावल और सब्जियां मेरे लिए बेहद जरुरी है । रात में, मैं ध्यान रख कर थोडा और हल्का भोजन जैसे खिचडी या सूप आदि खाती हूं. ‘‘कम खाना - गम खाना’’ मेरी निती है, इसका मतलब कम खाएं और जीवन में चीजे जिस तरह आती है उसे स्वीकारे। 

यह आपको धैर्य और गुस्से, तनाव आदि को नियंत्रित करने की क्षमता देता है । अगर आप इस जीवन शैली का पालन करते है, तो मुझे यकिन है कि आप सभी का स्वास्थ्य  प्रबल होगा । 

इस मनमोहक कहानी को सुनने के बाद, मैं स्थायी दर्द, उच्च ब्लड शुगर, त्वचा की समस्याएं और अधिक स्थायी बीमारियों से निपटने के लिए अपने आप को आयुशक्ति के आयुर्वेदिक प्रस्ताव में गहराई से विश्वास करने से नहीं रोक सकता । यह मेरे लिए एक अद्भुत अनुभव है, जब आयुशक्ति डॉक्टर ने मेरी नाडी पढी (आपकी शारीरिक-मानसिक-भावनात्मक स्वास्थ्य स्थिति का पता करने के लिए एक प्रामाणिक प्राचीन प्रणाली) और मेरी प्रक्रुति को समझाया । मैंने आयुशक्ति डॉक्टर से पूछा कि आजकल अधिकतर लोगों को जोडों का दर्द क्यों होता है । आयुशक्ति डॉक्टर ने बेहद वास्तविक तरिके से इसके बारे में बताया । 

 

जोडों के दर्द, कंधे के दर्द, गर्दन के दर्द, पीठ के दर्द का मूल कारण आपके शरीर में एक्सेस वात (अतिरिक्त वायु) है । यह अरिरिक्त वात (वायु) शरीर में चैनलों को सूखा देता है। 

खासकर जब यह जोडों में जम जाता है, आप दर्द और जकडन महसूस करते है ।

दूसरा कारण अपचन और कम पाचनशक्ती है । यह हमारे शरीर में आम (जहरीला कफ)

 

बना देता है । इसकी आक्रामक क्रिया के माध्यम से, बढा हुआ वात (वायु) ऊतकों और चैनलों में आम प्रसारित करता है, जो बाद में जोडों के फंक्शन (कार्यों) को ब्लॉक कर देता है । इसके कारण आपको घुटनो के जोडों, पीठ, कंधे, गर्दन आदि में दर्द, जकडन और सूजन महसूस करते है। खासकर अपने हाथों को ऊपर उठाने, वजन उठाने, सीढिया ऊपर व नीचे उतरते या चलने पर भी दर्द, जकडन और सूजन महसूस करते हैं । 

जोडों और हड्डियों का अध:पतन (बिगडना) होना तीसरा कारण है । अतिरिक्त वात (वायु), कम पाचनशक्ती और बढ़ती हुई उम्र के वजह कार्टीलज (लचीली हड्डिया) का अध:पतन (बिगडना) होता है । अगर आप अधिक कैल्शियम वाले आहार या सप्लीमेंट्स भी खाते है, तब भी जोडों और हड्डियों के ऊतकों को ब्लॉक्स के कारण पर्याप्त पोषक तत्व और विटामिन नहीं मिलते हैं । इससे आगे, जोडों में विकार और खुर ध्वनि पैदा होती है. धीरे-धीरे वे बिगडना शुरु होते हैं। अंत में जोडों के बीच की जगह इतनी कम हो जाती है कि कमर, रीड का जोड, घुटने के जोडों में गंभीर दर्द होने लगता है, जिससे चलने और सीढियां चढने में तकलीफ होती है । 

 

कंधे के दर्द, गर्दन दर्द, कमर व जोडों के जकडन से छुटकारा पाने के लिए आयुशक्ति के आयुर्वेदिक उपचार क्या हैं ?

अतिरिक्त वात (वायु), हड्डियों में जहरीला बलगम इकट्ठा होना, जोडों और अन्य विभिन्न शरीर के चैनलों द्वारा बनाया गया ब्लॉकेज आयुशक्ति का ट्रीपल एक्शन ‘‘आर्थरॉक्स उपचार’’ 4 हफ्तों में प्रभावी रुप से हटाता है । यह अद्भुत तरिके से आपके पाचनशक्ती को बेहतर करता है और बेहद कडे तरिके से जोडों के ऑइलिंग उपचार का पालन कर सूखे जोडों में नमी (मोइस्चर) प्रदान करता है । यह प्रभावशाली उपचार आपके शरीर में अतिरिक्त वात (वायु) को कम करता है, जिससे गहराई से जकडन और सूजन से रहत मिलती है । इस प्रकार से आपको अपने गर्दन दर्द, कंधे के दर्द और पीठ दर्द में उल्लेखनीय राहत का अनुभव होगा । हमारे शरीर के जोड दरवाजे पर द्वारसन्धि की तरह काम करते ह । जब द्वारसन्धि में तेल सूख जाता है, तब वह आवाज करने लगती है और ठीक से काम करना बंद कर देती है । तब आप दरवाजे के जोडों को साफ कर, उन पर दूबारा से ग्रीज़ लगाते है । उसी तरह से, आयुशक्ति में पहले हम विषैले कफ को हटाते है और फिर ऑइलिंग उपचार से जोडों में ग्रिसींग करते हैं। इसकी सुव्यवस्थित पद्धति से, जोड अद्भुत तरिके से लचीले हो जाते है और हड्डिया व कार्टीलज पूर्व अवस्था में आ जाते है । 

 

आर्थरॉक्स कायाकल्प उपचार-आपकी दर्द मुक्त स्वस्थ जोडों के साथ नई यात्रा !

सक्रिय उपापचय और मजबूत जोडों के कार्टीलज का मोइस्टनिंग (नमी) उपचार नई कोशिकाओं को पूनर्जीवित कर जोडों को दूबारा सामान्य काम करने में मदद करता है । आखिर में, आप ना दर्द, ना सूजन और शानदार लचीलापन महसूस करेंगे । बस कुछ ही महिनों में, लोगों ने बताया है कि जो लोग एक समय में 200 मीटर से अधिक नहीं चल पाते थे, अब 2 किलोमीटर तक चल सकते हैं। लोगों ने आयुशक्ति को धन्यवाद देते हुए कहा कि वे अब सीढियां चढ सकते हैं और बाहर  जा सकते हैं, जो गंभीर दर्द के कारण पहले संभव नहीं था । आयुशक्ति के उपचार के बाद भी, आयुशक्ति डॉक्टर की माँ की तरह आप भी हमेशा स्वस्थ और दर्द मुक्त रह सकते हैं, अगर आप आयुशक्ति डाइट (आहार) को बनाए रखें और  

 

निर्देशित जडी बुटियां लेना जारी रखें।

मुझे स्थायी (क्रोनिक) समस्याओं के प्रति आयुर्वेद का संपूर्ण दृष्टिकोण पसंद आया । मुझे सबसे अधिक यह पसंद आया की लोगों का आयुर्वेद के प्रति विश्वास है और यह विश्वास इतना अधिक है की दुनिया में लोग इसका पालन कर और लोगों को भी सलाह दे। यह आपको विश्वास हासिल करने में मदद करता है । आयुशक्ति और उसके डॉक्टर प्राचिन प्रामाणिक उपचार प्रदान करने में बेहद अच्छे हैं। यह सच में अद्भुत है ।

 

जर्मन डॉक्टर को पूराने कंधे के दर्द से राहत मिल गयी है ।

 

 ‘‘78 साल की उम्र में भी आयुशक्ति डॉक्टर की माँ को बिना किसी जोडों के दर्द और सामान्य शुगर स्तर के देखकर मैं आश्चर्य चकित हो गया । पिछले 10 सालों से में अपने कंधे के गंभीर दर्द से ग्रस्त था । इसकी वजह से मैं अपने दैनिक काम जैसे नहाना, खेल खेलना और यहा तक की सो भी नहीं सकता था । मैंने बहुत सारी विदेशी दवाईयों को आजमाया, पर किसी का परिणाम अच्छा नहीं मिला । मुंबई आयुशक्ति क्लिनिक आके सुपर आर्थरॉक्स उपचार लेने के बाद, मेरे कंधे का दर्द लगभग खत्म ही हो गया है, मैं बिना किसी दर्द के अपना हाथ ऊपर उठा सकता हूं और मेरा वजन भी कम हुआ । आयुशक्ति आर्थरॉक्स उपचार अद्भुत है। जो लोग 5,6 और 10 सालों पूराने जोडों के दर्द, कंधे का दर्द, घुटने का दर्द, पीठ और गर्दन दर्द आदि से पीडित है उनको मैं इसकी सलाह दूंगा । ’’ - डॉ. क्रिस्टोफ गार्न

 

आयुशक्ति के प्रमाणित उल्लेखनिय ‘‘आर्थरॉक्स’’ उपाय से आपको क्या लाभ मिलते हैं ?

 Dr Garner

10 साल और उससे भी अधिक पूराने कष्टदायी पीठ दर्द, घुटने और कंधे के दर्द से राहत देता है ।

सूजन, दर्द व कमर के जकडन, पीठ की हड्डियों, कंधे व घुटनों के जोडों के दर्द को कम करने में मदद करता है ।

पाचन और पाचनशक्ती को सुधारता है, ताकि पेट में कोई सूजन ना हो ।

पैरों और उंगलियों में जलन व सूजन को कम करता है । मांसपेशियों के गठीयों से राहत दिलाता है ।

घुटने और कमर के जोडों से दर्द और चरचराहट की ध्वनि को कम करता है ।

बिना दर्द के खडे रहने, चलने और सीढिया चढने में सक्षम बनाता है । हड्डियों और जोडों को मजबूत बनाने में मदद करता है ।

 

अयुशक्ति का मिशन लोगों की हरसंभव मदद करना है। यहाँ तक कि ये कठिन समय भी हमें रोक नहीं सकते; आप फोन, वीडियो पर हमारे विशेषज्ञों से परामर्श कर सकते हैं या निकटतम क्लिनिक पर जा सकते हैं। अपना परामर्श यहाँ बुक करें https://bit.ly/31YnP1b

घर रहो | स्वस्थ रहें

अधिक जानकारी के लिए, हमें [email protected] पर लिखें

आप हमसे हमारे टोल-फ्री नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं - 18002663001 (भारत)

 

 

ब्लॉग के लेखक: डॉ दीपाली शास्त्री

विशेषज्ञ की समीक्षा द्वारा: डॉ स्मिता पंकज नरम

सह-संस्थापक, अयुशक्ति आयुर्वेद प्राइवेट लिमिटेड




 

Comments
Login to post