खांसी, सर्दी, सांस फूलना तथा एलर्जी के लिए आयुर्वेदिक उपचार


सांस लेना जीवन के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। जब हम सांस लेते हैं, पूरे शरीर में ऑक्सीजन का संचार होता है, और जब हम सांस बाहर निकालते हैं, तो कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलती है। इस कारण से, जब भी हम सांस लेते समय वायरस, बैक्टीरिया या धूल कणों के संपर्क में आते हैं, तो प्रतिरक्षा प्रणाली उन्हें शरीर से बाहर करने के लिए तत्काल हाइपरएक्टिव हो जाती है।

प्रतिरक्षा प्रणाली श्वसन प्रणाली के भीतर म्यूकस (बलगम) के रूप में प्रतिक्रिया करती है, जो बाह्य तत्वों को अपने आप में घोल देती है, और उन्हें खांस और सर्दी-जुकाम के माध्यम से बाहर कर दिया जाता है। इसके मायने हैं कि वास्तव में सुरक्षा तंत्र हैं, जो हमारी श्वसन प्रणाली को साफ रखते हैं।

इससे खांसी और सर्दी जुकाम आसान और उपयोगी नज़र आने लगते हैं, लेकिन वे लोग जो इनसे लंबे समय से पीड़ित रहते हैं, उनके जीवन बहुत दुखदायी हो सकता है। काम, सामाजिक जीवन, बाह्य गतिविधियां- फिर चाहे यह कुछ भी क्यों न हो, जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है। हमें इस समस्या का सर्वोत्तम तरीके से समाधान करने की आवश्यकता होती है।

आयुशक्ति पुरानी और गंभीर सर्दी-जुकाम, दमा और प्रतिरक्षा कमज़ोरी सिंड्रोम में विशेषज्ञता रखती है। हमने सजग डाइट, घरेलू उपचारों और जड़ी बूटियों से विश्व भर में हजारों लोगों का उपचार किया है।

श्वसन समस्याओं के सबसे आम कारण निम्नलिखित होते हैं:

  • बैक्टीरियल या वायरल संक्रमणों से पीड़ित होना।
  • धूल, फंगस कणों, धुएं, कुछ खास प्रकार के खाद्य पदार्थों से एलर्जी।
  • स्मोकर्स सिंड्रोम- वे लोग जो धूम्रपान करते हैं, वे बहुत अधिक खांसी करते हैं क्योंकि धुएं का उत्तेजक भरा प्रभाव होता है और ऐसा श्वसन पथ की कोशिकाओं को होने वाली क्षति के कारण भी होता है।
  • धुएं, धूल और अन्य प्रदूषकों आदि के उत्तेजक कारकों के साथ लंबे समय तक संपर्क में रहना।
  • शरीर की निम्न प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया।

इस श्रेणी में कौन से चार प्रकार की आम बीमारियों को देखा जाता है?

  • सामान्य वायरल खांसी
  • पुरानी खांसी, गले का संक्रमण और जलन, कान का संक्रमण
  • एलर्जी के कारण सांस लेने में कठिनाई और ब्रोंकाइटिस

सामान्य वायरल खांसी


श्वसन पथ से बाह्य तत्वों को बाहर निकालने के लिए खांसी हवा की अचानक होने वाली विस्फोटक गतिविधि होती है। इससे फेफड़ों को कणों से सुरक्षा प्रदान करने मे मदद मिलती है। खांसने से बलगम, श्लेष्मा का मिश्रण, कचरा और कोशिकाएं बाहर आ सकती हैं। यदि यह गंभीर और पुरानी हो जाती है, तो इससे सांस फूलना, गला बैठन, चक्कर आना और घरघराहट हो सकती है। वायरल खांसी बहुत ही संक्रामक होती है, और किसी भी सामाजिक समूह में बहुत तेजी से फैलती है।

लक्षण:

1. खांसी, गला बैठना

2. गले में जलन

3. थकान और शरीर में पीड़ा

4. सर्दी-जुकाम, यदि संक्रमण नाक तक फैल गया है।

आमतौर पर सर्दी जुकाम सात दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाता है, आप चाहे दवा लें या नहीं। खांसी को दबाने के लिए आप कुछ भी क्यों न लें, वह उपयोगी साबित नहीं होता है। वास्तव में, दबाने से खांसी सूखी खांसी में परिवर्तित हो जाती है, और ऐसी सूखी खांसी महीनों तक बनी रहती है।

बलगम और खांसना, संक्रमणों और श्वसन प्रणाली से कणों को बाहर निकालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हम जो सबसे अच्छा काम कर सकते हैं, वह है कि हम अपनी प्रणाली का तरलीकरण करें और आसानी से बलगम को बाहर निकालें, और सात दिनों की असुविधा और पीड़ा को कम कर दें।

निम्नलिखित बहुत सुरक्षित और प्रभावी घरेलू इलाज को फॉलो करें और संकुलन को दूर करें और बलगम को बाहर निकालें

  • 1. ¼ चम्मच ताजी अदरक का रस
  • 2. ¼ चम्मच हल्दी पाउडर
  • 3. ¼ चम्मच लहसन का रस
  • 4. ½ चम्मच ताजी तुलसी पत्तों का रस
  • 5. 2 छोटे चम्मच शहद
  • 6. 1 चुटकी काली मिर्च का पाउडर

इन सभी तत्वों को मिला लें। यदि आप बड़ी मात्रा में इसे तैयार करते हैं और फिर से इसका इस्तेमाल करना चाहते है, तो इसे रेफ्रिजरेटर में रखें। इसका इस्तेमाल होने से पहले इसे कमरे के तापमान पर लाएं। इस मिक्चर की 1 ½ मात्रा का सेवन दिन में चार बार करें। बच्चे भी खांसी के इस मिक्स्चर का सेवन सुरक्षित रूप से कर सकते हैं।

खांसी, सर्दी-जुकाम, सांस फूलने और एल्जी आदि के लिए आहार और जीवनशैली प्लान:

निम्नलिखित के सेवन से बचें:

  • 1. गेंहू, मैदा, मांस (विशेष रूप से लाल मांस), रिफाइन्ड शुगर, गहरे तले हुए खाद्य पदार्थ। इन खाद्य पदार्थों से पाचक अग्नि में कमी होती है और इससे कफ तथा विषाक्तताओं (अम) की उत्पत्ति होती है।
  • 2. सभी मीठे फल जैसे सेब, नाशपाती, खुबानी, चेरी, आलूबुखारा, स्वीट बेरीज़, ताजे अंजीर और खजूर, आम, पपीता और अनार जिनकी तासीर बहुत ही ठंडी होती है और इनसे कफ अधिक बनता है।
  • 3. दूध और दूध उत्पाद भी कफ पैदा करते हैं, इसलिए उनसे बचा जाना चाहिए।
  • 4. बर्फ, ठंडे खाद्य पदार्थ और ड्रिंक्स पाचक अग्नि को तत्काल “बुझा” देते हैं। इनसे अधिक मात्रा में कफ की उत्पत्ति भी होती है। इसलिए उनसे बचा जाना चाहिए।

आप निम्नलिखित खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन कर सकते हैं: पकाई हुई सब्जियां जैसे कद्दू, स्क्वैश, मैरो, तोरी (तुरई), आइवी लौकी / जेंटलमैन्स टोज़ (तेंदली), पालक ,मेथी, फ्रेंच बीन्स, लौकी (दूधी), तुरई, परवल, गलका, मांगे-टाउट, शतावरी, सौंफ (सुवा भाजी), स्वेड्स, स्वीट कॉर्न, प्याज, गाजर, पार्सनिप चुकंदर, अजवाइन, चिकोरी और लीक। आलूओं को बिना छीले कभी कभी सेवन करना चाहिए।

दालें स्वस्थ डाइट का अनिवार्य हिस्सा होती हैं। मूंग तथा मूंग छिलता, तूर की दाल और मसूर की दाल पाचन में आसान होती हैं, संतुलित होती हैं और शरीर के लिए पोषक होती हैं। दालों की पूरी पौष्टिकता को प्राप्त करने के लिए उनका सेवन अनाज (विशेष रूप से चावल) के साथ किया जाना चाहिए।

चावल, जई, राई, मक्का (मकाई), बाजरा (जवार, बाजरा नाचनी) ऐमारैंथ (राजगिरा), क्विनोआ, कामुट, वर्तनी, पोलेंटा सहित अनाज; मूल रूप से गेहूं और मैदा के अलावा सब कुछ। इन अनाजों से और आलू तथा बकव्हीट से बने आटे “सामान्य” आटे के लिए उत्कृष्ट विकल्प हैं।

सूखे मेवे जैसे बादाम, अखरोट, खुबानी, अंजीर, हेज़ल नट्स, खजूर तथा किशमिश का सेवन कर सकते हैं। कभी-कभी, आप सफेद मांस जैसे चिकन, टर्की, तथा मछली (ताजा पानी से) का सेवन भी कर सकते हैं।

आप डेयरी मिल्क की जगह पर बादाम मिल्क, राइस मिल्क, सोया मिल्क या ओट मिल्क ले सकते हैं।

अपनाए जाने वाली जीवनशैली:

  • 1. धूम्रपान पूरी तरह से बंद कर दें।
  • 2. सर्दी, तेज हवाओं, धूल, धुएं और अन्य प्रदूषकों से बचें, या अपने सिर, कानों, नाक को कवर कर लें ताकि आप इनसे खुद को बचा सकें।
  • 3. कम बात करके अपने वोकल कॉर्ड को राहत दें।
  • 4. दिन भर गुनगुना पानी पीएं और ठंडे पानी के सेवन से बचें।
  • 5. तुलसी, अदरक तथा पुदीने की पत्तियों से युक्त गर्म चाय पिएं।
  • 6. रोज़ाना एक्सरसाइज़ और योग करें, क्योंकि इससे रक्त की ऑक्सीजन को वहन करने की क्षमता में सुधार और उसे बनाए रखा जाएगा।
  • 7. संतुलित आहार का सेवन करें जैसा कि ऊपर बताया गया है। इससे शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार होता है, जो श्वसन संबंधी समस्त बीमारियों में बहुत ही महत्वपूर्ण है।
  • 8. भस्त्रिका, कपालभाती तथा उज्जयी प्राणायाम जैसी श्वसन तकनीकों को अभ्यास बलगम वाली खांसी तथा शीतली और शीतकारी प्राणायाम का अभ्यास सूखी खांसी के लिए करें।

सिफारिश की गई आयुशक्ति जड़ी बूटियां1. दिव्यस्वास जीवन 1 गोली दिन में दो बार

2. दिन में दो बार एस्थालॉक 2 गोलियां

3. कफानो सिरप 1 छोटा चम्मच दिन में 3-4 बार

4. ये जड़ी बूटियां 27 से अधिक वर्षों से प्रभावी साबित हुई हैं। इनसे सूजे हुए गले को राहत मिलती है, और खांसी के लिए कारगार साबित होती हैं, तथा बलगम को पतला करके बाहर निकालती हैं और संकुलन को दूर करती हैं।

5. आयुशक्ति डॉक्टर से बात करने के लिए अभी टोल फ्री नम्बर 18002663001 पर कॉल करें।

एलर्जिक सर्दी जुकाम, नाक बंद होना तथा साइनुसाइटिस


सर्दी जुकाम न केवल संक्रमण से हो जाता है बल्कि एलर्जी से भी होता है। घास, खर पतवार, पेड़ के पराग कण, धूल के कण, पेट्रोल का धुआं, परफ्यूम स्प्रे, बिल्ली या कुत्ते के बाल, और साथ ही दूध और मूंगफली से काफी अधिक गहरी हिस्टामाइन प्रतिक्रिया हो सकती है। यह बड़े पैमाने पर कफ को पैदा करने के रूप में प्रतिरक्षा संबंधी प्रतिक्रिया है, जिसके द्वारा एलर्जिक कणों को बाहर निकाल दिया जाता है। सामान्य सर्दी जुकाम के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया भी समान होती है। यह संक्रमण और एलर्जिक कणों के संबंध में यह हमारी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होती है।

एलर्जिक सर्दी जुकाम, सीने में जकड़न तथा साइनुसाइटिस

  • बार बार छींकना
  • बहती नाक और फिर बाद में जकड़न तथा साइनस का बंद होना
  • सांस लेने में कठिनाई के साथ नाक बंद होना और फिर घरघराहट होना
  • सिरदर्द, दोनों गालों , आंखों, भौहों में पीड़ा जिसके बाद बुखार हो सकता है।
  • कभी कभी कान में चुभन भरा दर्द होता है।

थूक (बलगम) की जांच करके सर्दी-जुकाम के कारण का पता लगाना संभव होता है। पीला, हरा या भूरे रंग के बलगम बैक्टीरियल संक्रमण का संकेत होता है; साफ और चिपचिपे बलगम का अर्थ भोजन या जलवायु से संबंधित एलर्जी होता है।

बलगम को दवा से दबाने से जलन, खराश और लगातार बने रहने वाली जकड़न होती है। सबसे अच्छा समाधान अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के साथ साथ बलगम को पतला करना और बाहर निकालना होता है।

कभी कभी, मान लीजिए 4-6 महीने में होने वाली सर्दी जुकाम का उपचार करना कोई कठिन नहीं होता है। समस्या तब पैदा होती है जब एलर्जिक से होने वाला सर्दी जुकाम लगभग हर रोज़ या साप्ताहिक तौर पर होता है। वह दशा जो बार बार होने वाले पुराने साइनुसाइटिस में परिवर्तित हो जाती है, जहां पर साइनस (सिर की हड्डियों के बीच के जगह) संक्रामक कफ से अवरूद्ध हो जाती है।

आयुशक्ति द्वारा प्रभावी जड़ी बूटियों से अनेक मामलों में सफलतापूर्वक सहायता की है। इन जड़ी बूटियों द्वारा प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाया जाता है, बलगम को पतला किया जाता है और सांस लेने में आसानी की जाती है। जकड़न या संकुलन को जड़ से दूर कर दिया जाता है, ताकि यह आसानी से फिर से न हो।

एलर्जी, खांसी, सर्दी, बुखार और साइनस से राहत प्रदान करने के लिए उल्लेखनीय हर्बल चाय; आसानी से सांस लेने के लिए जमाव, पिघलने और गाढ़े बलगम को प्राकृतिक रूप से बाहर निकालने के लिए:

  • 1. ½ चम्मच ताज़ी अदरक कूटी हुई
  • 2. 12 संख्या कूटी हुई तुलसी की पत्तियां
  • 3. 3 संख्या कूटी हुई काली मिर्च
  • 4. 3 संख्या इलाचयी कूटी हुई (3 संख्या)
  • 5. 5 संख्या पुदीने की पत्तियां, कुचली हुई 5 संख्या
  • 6. ½ इंच दालचीनी
  • 7. 1 ¼ कप पानी
  • 8. 1 चम्मच या स्वाद के अनुसार गुड़

मिश्रण को मिक्स करें और चाय बनाएं छान लें और दिन में 3-4 बार पिएं

साइनस से मुक्ति के लिए:तवे पर 2 चम्मच अजवायन को भून लें। जब तक अजवायन के बीजों का धुंआ समाप्त नहीं हो जाता है, तब तक उसे सूंघते रहें; और इस प्रक्रिया को नए बीजों के साथ शुरू करें। हर रोज़ पाँच मिनट तक अजवायन के बीजों के धुएं को सूंघते रहें।

यदि साइनस और जकड़न गंभीर है, तो यह उपचार बहुत शक्तिशाली साबित होता है।

  • 1. ¼ चम्मच लहसुन का रस
  • 2. 2 छोटे चम्मच पानी

लेट जाएं और इस मिक्स्चर के ½ चम्मच दिन में 2 बार प्रत्येक नासिका में डालें इसमे जलन होती है लेकिन इससे जकड़न दूर हो जाती है और लहसन से बैक्टीरियल संक्रमण ठीक कर दिया जाता है।

सिफारिश की गई आयुशक्ति जड़ी-बूटियां:एस्थालॉक- 2 गोलियां दिन में दो बार- से घरघराहट, जकड़न, सांस फूलने, एलर्जी के कारण होने वाली खांसी से प्रभावी रूप से राहत मिलती है।

डी-वायरो-2 गोली हर रोज़ दो बार- प्राकृतिक प्रतिरक्षा संवर्धक यदि नियमित रूप से इसका सेवन किया जाता है, तो खांसी, सर्दी-जुकाम और एलर्जी आदि में उल्लेखनीय रूप से कमी आती है।

पुरानी खांसी, गले में जलन और कान का संक्रमण


कभी कभी खांसी और गले के संक्रमण पूरी तरह से ठीक नहीं होते हैं। बलगम नाक और साइनस में बनी रहती है। इससे खांसी, गले में जलन आदि तथा कान में संक्रमण काफी समय तक बने रहते हैं। निम्नलिखित लक्षणों का बार-बार होना निम्न प्रतिरक्षा का संकेत होता है।

  • 1. बलगम के साथ या उसके बिना लगातार खांसना
  • 2. गले में जलन या लालिमा
  • 3. आवाज़ में घरघराहट
  • 4. कान में दर्द और कान में खुजली
  • 5. सिरदर्द, बीमार महसूस करना
  • 6. सूंघने और सुनने की कम संवेदना

आयुशक्ति द्वारा सफलतापूर्वक ऐसे अनेक पुराने मामलों का समाधान किया गया है, जिसमें पीड़ितों को एक नया जीवन प्रदान किया गया है।

गले में जलन आदि और बार-बार होने वाले कान के संक्रमणों से राहत के लिए घरेलू उपचार

  • 1. 10 संख्या तुलसी के ताज़े पत्ते
  • 2. 2 काली मिर्च (साबुत)

सुबह इन दोनों को एकसाथ चबाएं और जब आधे चबा लिया जाए, तो पानी के साथ मिश्रण को निगल लें।

शाम को इसे दोहराएं तथा एक बार फिर से रात को सोते समय ऐसा करें

कैस्टर आयल: रात को सोने से पहले प्रत्येक नासिका में कैस्टर (अरंडी) आयल की 2-4 बूंदे डालें।

गोली बनाने के लिए निम्नलिखित चीजों को मिक्स करें और इसे दिन में 3 से 6 बार चूसें।

  • 1. ¼ चम्मच हल्दी पाउडर
  • 2. ¼ चम्मच मुलेठी पाउडर
  • 3. गोली बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में शहद

गले में जलन आदि और संक्रमणों से राहत देने के लिए आयुशक्ति जड़ी बूटियां:

  • 1. तास्थालॉक गोलियां 2-2
  • 2. डी-वायरो गोलियां 2-2
  • 3. कफानो सिरप 1-1 चम्मच
  • 4. एन्टीसेप्टा गोली 1-1

एलर्जी के कारण होने वाला सांस फूलना /दमा और ब्रोंकाइटिस


हवा के फेफड़ों तक पहुंचने के लिए एक साफ रास्ता, जिससे रक्त और ऊतकों को अनिवार्य ऑक्सीजन की आपूर्ति मिल सके, यह जीवन के लिए अनिवार्य है। जब ब्रोंकाइटिस या दमा के कारण वायुमार्गों में सूजन आ जाती है या वे अवरूद्ध हो जाते हैं, तो यह स्पष्ट परिणामों के साथ इस पहुंच में कमी आती है, इसलिए उनका प्रभावी रूप से उपचार किया जाना आवश्यक है।

गंभीर ब्रोंकाइटिस वायुमार्गों की परत की सूजन होती है जो वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण की वजह से होती है। आमतौर पर यह खुद ही ठीक हो जाती है। बार-बार होने वाला ब्रोंकाइटिस उत्तेजकों जैसे तम्बाकू, धुंआ, धूल या रसायनों के साथ दीर्घकालिक संपर्क में आने के कारण होता है।

दमा एक सूजनकारी दशा है जिसकी वजह से वायुमार्गों के आसपास की मांसपेशियां संकुचित हो जाती हैं। इसके नतीजे के कारण सूजन और संकुचन हो जाता है, जिससे वायुप्रवाह प्रतिबंधित हो जाता है।

लक्षणों की तुलना:

ब्रोंकाइटिस दमा
खांसी खांसी, रात को विशेष रूप से
बलगम बनना: साफ, धूसर या हरा रात को नींद न आना
थोड़ा बुखार और ठंड लगना और थकान। घरघराहट
सीने में असुविधा सांस फूलना
एक्सरसाइज़ के बाद कमजोरी
सीने में जकड़न, दबाव और पीड़ा

वायुमार्गों को विस्तारित करके दमा के हमलों को दबाना न तो प्रभावी होता है और न ही दीर्घकालिक होता है।

आयुशक्ति ने दुनिया भर में ब्रोंकाइटिस, दमा और ब्रांकियल दमा के अनेक लोगों की सहायता की है। अब ये लोग रात को बैचेन हुए बिना और साथ ही असंख्य गोलियों और इन्हेलर्स के बिना रहते हैं। उनके फेफड़े के कार्य और प्रतिरक्षा में सुधार के साथ, उनके जीवन की गुणवत्ता में बहुत अधिक सुधार हुआ है।

दमा, ब्रोंकाइटिस, पुरानी श्वसन समस्याओं में आयुशक्ति के उपचार किस प्रकार से लाभदायक साबित होते हैं।

  • 1. वायुमार्गों की सूजन में कमी जिससे कारण पूरे वायु पथ में अवरोध कम हो जाते हैं।
  • 2. सीने की मांसपेशियों के संकुचन पर निंयत्रण
  • 3. वायुमार्गों में अवरूद्ध बलगम का घुलना
  • 4. समग्र प्रतिरक्षा में सुधार

सिफारिश की गई आयुशक्ति जड़ी-बूटियां

स्वासेविन एस्थालॉक गोलियां- 2 गोलियां दिन में दो बार, सांस फूलने से राहत के लिए।

स्वासविन कैफनो सिरप- 2 चम्मच दिन में दो बार, जकड़न को ठीक करने के लिए

स्वासविन डी वायरो- 2 गोलियां हर, प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने के लिए

आयुशक्ति के अस्थाटोक्स से सांस फूलने की पुरानी बीमारी, ब्रोंकाइटिस, बार बार होने वाली एलर्जिक खांसी, सर्दी तथा साइनस से किस प्रकार से राहत मिलती है?

आयुशक्ति का अस्थाटॉक्स 3-5 हफ्ते का गहरा पंचकर्म उपचार है जिसमें वायुमार्ग से खांसी वाले बलगम के अवरोध को हटाने पर ध्यान केन्द्रित किया जाता है. प्रतिरक्षा में सुधार करके श्वसन चैनल को मजबूत करना ताकि एलर्जी की बारम्बारता और संक्रमणों में उल्लेखनीय कमी आ जाए। अस्थाटॉक्स उपचार में रिजुवेनेशन जड़ी बूटियों से चैनल को पौष्टिकता प्रदान करने में सहायता की जाती है और इस प्रकार फेफड़ों को संरक्षित किया जाता है और सांस लेने में आसानी को बढ़ावा दिया जाता है।

प्रशंसा संबंधी वीडियो

Close
Close
Close

My Cart

Shopping cart is empty!

Continue Shopping

This will close in 0 seconds

    Treatment Form


    This field is required


    This field is required


    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required


    This field is required



    This field is required

    Fees - 300Rs


    This will close in 0 seconds

    Translate »
    loader

    Treatments: Arthritis | Asthma | Weight Loss | Skin | Infertility | Acidity | Diabetes | Stress | PCOS - PCOD | Hairfall | Knee Pain | Blood pressure | Thyroid | Headache | Cold Cough | Child problems

     

    E-books: Arthritis | PCOD | Immunity | Psoriasis | Asthma | Stress | Acidity | Thyroid | Charaka Samhita | Ashtanga HridayaFrozen ShoulderObesity

     

    Research Papers: Immunity | Asthma | Diabetes | Arthritis | Infertility | Diffuse Axonal Injury | Hypertension

     

    Blogs: A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y | Z

     

    Ayushakti.com © 2024. All Rights Reserved.