थायरॉइड के लिए आयुर्वेदिक उपचार

थायरॉइड ग्रंथि हमारे शरीर का पॉवरहाउस होता है जो दिल की धड़कन और पाचन कार्यों जैसे फंक्शंस को नियंत्रित करता है। थायरॉइड हार्मोन की सही मात्रा के बिना, आपके शरीर की प्राकृतिक प्रक्रियाएँ धीमी होने लगती हैं।

थायरॉइड की समस्या कैसे होती है?

थायरॉइड ग्रंथि की खराबी आयोडीन की कमी या ऑटोइम्यून बीमारियों के कारण हो सकती है। प्रतिरक्षा प्रणाली थायरॉयड ग्रंथि पर हमला करती है, जिससे ग्रंथि में सूजन आ जाती है, जिससे हाइपरथायरायडिज्म, हाइपोथायरायडिज्म या हाशिमोटो थायरॉयडिटिस हो जाता है।

कई दवाएँ भी हाइपोथायरायडिज्म का कारण बन सकती हैं। यदि आप कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कोई दवा ले रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि उनका आपके थायरॉयड ग्रंथि पर तो कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

आपको कैसे पता चलेगा कि आपके थायरॉइड में कुछ गड़बड़ी है?

1. अचानक वजन कम होना या वजन बढ़ना।

2. हार्टबीट तेज होना

3. दिल तेजी से धड़कना।

4. घबराहट, एंग्जायटी, या चिड़चिड़ापन।

5. अत्यधिक थकान, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी का होना।

6. गर्मी बर्दाश्त नहीं होना, सोने में कठिनाई।

7. बाल झड़ना।

8. शरीर का कांपना।

आयुशक्ति के डॉक्टर विडियो या फेस-टू-फेस कंसल्टेशन के माध्यम से थायरॉइड की गड़बड़ी में कारण का विश्लेषण करते हैं और आहार, जीवन शैली, हर्बल फ़ार्मुलों और डिटॉक्स प्लान्स का उपयोग करके आपके लायक “थायरोटॉक्स” प्रोग्राम बनाते हैं।

जिनकी थायरॉइड की समस्या ठीक हो गई और जिनकी त्वचा में चमक के साथ वजन में कमी आई

“मुझे कुछ वर्षों से थायरॉइड की समस्या थी। मेरा वजन बढ़ गया, और गंभीर कमजोरी भी थी। एक विशिष्ट आहार, जड़ी-बूटियों और डिटॉक्स थैरेपी से, मेरी थायरॉइड की समस्या पूरी तरह से दूर हो गई है। वजन सामान्य हो गया और मैं अधिक ऊर्जावान और फ्रेश हो गई। मैं उन सभी को आयुशक्ति उपचार लेने की सलाह देती हूँ जो पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हैं।” आशा सुनील माने, मुंबई

कम एनर्जी और हेयर फॉल के साथ चार साल का थायरॉइड समस्या 3 हफ्ते में ठीक हो गया!

 “मुझे पिछले 4 वर्षों से थायरॉइड की समस्या थी। मैं पूरा दिन भारीपन और एनर्जी में कमी महसूस करती थी, तथा मेरे बाल तेजी से झड़ रहे थे। आयुशक्ति के उपचार से मैं डेढ़ सप्ताह के भीतर ही खुद के भीतर एनर्जी और हर तरह से बेहतर महसूस करने लगी। विभिन्न उपचारों, आहारों और जड़ी-बूटियों ने संपूर्ण स्वास्थ्य में 60% तक सुधार करने में मदद की। बालों का झड़ना लगभग बंद हो गया है, और मेरी त्वचा बेहतर हो गई है। उपचार के अंत तक, मेरा वजन भी कुछ कम हो गया, जो एक बोनस था। मैं इस इलाज से बहुत -खुश हूँ।” विमला, मॉरीशस

अब मुझे थायरॉइड की किसी दवा की जरूरत नहीं है।

 “पिछले 10 वर्षों से, मेरे स्कैल्प (खोपड़ी/सर की त्वचा), चेहरे, गर्दन के पिछले हिस्से और हाथों पर बहुत लाल चकत्ते थे और खुजली होती थी। मेरे एमडी डॉक्टर ने इसका निदान किया और मुझे बताया कि यह एक ऑटोइम्यून, थायरॉइड, सोरायसिस और आईबीएस की समस्या है। फिर, आयुशक्ति के प्राकृतिक प्रोग्राम से, त्वचा के फटने में मुझे 80% की कमी, और आईबीएस में 100% राहत मिली। फिर एक साल तक आयुशक्ति जड़ी-बूटियों का सेवन करने से, मुझे थायरॉइड की किसी दवा की भी जरूरत नहीं पड़ी। पाउला, जर्मनी

मुझे अब थायरॉइड की गोलियों की जरूरत नहीं है, आयुशक्ति के प्राकृतिक उपचार से मुझे पैनिक अटैक आने बंद हो गये है, और मेरी बेचैनी तथा कमजोरी दूर हो गई है।

 “मुझे नियमित रूप से सुबह के समय पैनिक अटैक आते हैं, चिंता, बेचैनी, घबराहट महसूस होती है जो मुझे पूरी तरह से थका देती है। एलोपैथिक अकादमिक उपचार से, मुझे जीवन भर हार्मोन की गोलियाँ लेनी पड़ती। लेकिन आयुर्वेदिक उपचार से, यह इतना बेहतर हो गया कि मेरे ब्लड टेस्ट में अब थायरॉइड एंटीबॉडी के कोई लक्षण नहीं हैं। फिलहाल, मेरा स्वास्थ्य फिर से सुधर गया है।” ए.एम, वियना

आयुशक्ति का “थायरोटॉक्स” प्रोग्राम आपके थायरॉयड ग्रंथि के फंक्शंस को सुरक्षित रूप से बहाल करने और मोटापे, हृदय रोग, बांझपन या मधुमेह के जोखिम से बचने के लिए 3 चरणों में मदद करता है।

पहला चरण – निकालना

सही प्रकार के डिटाक्स से आंतों और इंट्रासैल्यूलर कोशिकाओं से अवरोधों, सूजन को दूर करना और विषाक्त पदार्थों को हटाना ताकि रक्त की उचित आपूर्ति क्षतिग्रस्त अंगों तक पहुंच सके और इंट्रासैल्यूलर विषाक्त पदार्थों को साफ किया जा सके।

दूसरा चरण – पुनर्स्थापित करना

शक्तिशाली घरेलू उपचारों, डाइट, जीवनशैली परिवर्तन तथा मर्म प्रेशर बिंदुओं से सभी अंगों की मरम्मत और सामान्य कार्यकरण की पुन:स्थापना करना, विशेष रूप से वे अंग जो बीमारी से प्रभावित हो जाते हैं।

तीसरा चरण – नवीनीकरण करना

क्षतिग्रस्त या कमज़ोर ऊतकों पर जड़ी बूटी सूत्रों और थेरेपीज़ का इस्तेमाल करके कदम-दर-कदम का पुनर्निर्माण और नवीकरण करना, और इस प्रकार जीवंत युवा स्वास्थ्य को बनाना और पुरानी समस्याओं से दीर्घकालिक राहत प्रदान करना।

आयुशक्ति का प्राकृतिक दृष्टिकोण क्यों?

रासायनिक दवाएँ पर लंबे समय तक निर्भर रहना पड़ता है और इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे:

1. लगातार वजन बढ़ना।

2. बांझपन

3. दय रोग, दम फूलना।

4. घबराहट और अवसाद, नींद की समस्या।

5. थकान महसूस करना।

6. बढ़ा हुआ रक्त शर्करा।

7. अतिसक्रिय थायरॉइड।

8. सिरदर्द, कंपकंपी।


आयुशक्ति का प्राकृतिक दृष्टिकोण सूजन को दूर करने, थायरॉयड ग्रंथि से रुकावटों को दूर करने और बिना किसी दवा निर्भरता के हार्मोनल फंक्शंस में सुधार करने पर केंद्रित है, इस प्रकार यह अन्य पुराने दुष्प्रभावों के जोखिम से दूर रहता है।

आपके स्वास्थ्य को पूरी तरह से परिवर्तित करने के लिए 3 कार्य चरण

हमारे आयुशक्ति विशेषज्ञ के साथ वीडियो/फेस टू फेस कंसल्टेशनआपकी ज़रूरतों के मुताबिक डाइट प्लान

आपकी ज़रूरतों के मुताबिक तैयार किए गए डाइट प्लान की आपके स्वास्थ्य में सुधार में 50% भूमिका होती है। आपकी ज़रूरतों के मुताबिक डिटॉक्स प्लान

आपकी ज़रूरतों के मुताबिक तैयार जड़ी बूटी सूत्रों और डिटॉक्स प्लान से दीर्घकाल तक बने रहने वाले स्वास्थ्य के लिए उल्लेखनीय परिवर्तन विकसित किए जाते हैं।

“थायरोटॉक्स” थायरॉइड प्रोग्राम के उल्लेखनीय लाभ क्या हैं?

1. थायरॉइड हार्मोन को संतुलित करना।

2. प्रतिरक्षा कार्यों को उत्तेजित करना और सूजन से राहत देना

3. चयापचय (मेटाबोलिज्म) में सुधार और इस प्रकार वजन कम करना

4. तनाव, चिंता, जलन से राहत देता है, नींद में सुधार करता है

5. जोड़ों के दर्द और जकड़न को कम करता है

6. दिल की धड़कनों में राहत देता है।

7. बालों और त्वचा का रूखापन कम करता है

8. बालों के झड़ने को नियंत्रित करता है।

9. फूले हुए चेहरे और आंखों को कम करता है।

10. मासिक चक्र को नियंत्रित करता है जिससे प्रजनन क्षमता को बढ़ावा मिलता है।

अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

हाशिमोटो क्या है, और इसका प्राकृतिक रूप से इलाज कैसे करें?

हाशिमोटो की बीमारी एक ऑटोइम्यून कंडीशन है जिसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपके थायरॉइड, जो आपके एडम्स एप्पल के नीचे आपकी गर्दन के आधार पर एक छोटी ग्रंथि है, उसपर हमला करती है । थायरॉयड ग्रंथि आपके अंतःस्रावी तंत्र का हिस्सा है, जो हार्मोन का उत्पादन करती है जो आपके शरीर के कई फंक्शंस को कॉआर्डिनेट करती है। आपकी रिपोर्ट में टीएसएच (TSH) बढ़ा हुआ दिखाया जाएगा जबकि टी3 टी4 कम होता है और टीपीओ (थायरॉइड पेरोक्साइड) एंटीबॉडी पॉजिटिव होता है। टीपीओ एक एंजाइम है जो आमतौर पर थायरॉइड ग्रंथि में पाया जाता है।

“थायरोटॉक्स” प्रोग्राम के माध्यम से थायरॉइड देखभाल का आयुशक्ति तरीका थायरॉइड के फंक्शन को सक्रिय रख सकता है, इसलिए आपके डॉक्टर किसी भी थायरॉइड दवा की सिफारिश नहीं करेंगे।

मुझे हाइपोथायरायड (लो थायरॉइड) था और मैं दवाएँ ले रहा था। अब मेरी रिपोर्ट से पता चलता है कि मुझे हाइपरथायरॉइड है। क्या किया जाए?

हाइपरथायरायडिज्म बहुत अधिक थायरॉइड दवा के सेवन से हो सकती है। अगर थायरॉइड हार्मोन लिया जा हो जिसकी शरीर को जरूरत नहीं हो, तो उसके परिणामस्वरूप हाइपरथायरायडिज्म हो सकता है। आयुशक्ति का “थायरोटॉक्स” प्राकृतिक उपचार 2-6 महीनों के भीतर प्रभावी ढंग से थायरॉयड फंक्शंस को बहाल करने में मदद कर सकता है। आयुशक्ति डॉक्टर से परामर्श करने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

थायरॉइडाइटिस क्या है?

थायरॉइडाइटिस, थायरॉयड ग्रंथि की सूजन है। यह आमतौर पर एक वायरल बीमारी के कारण होता है। आपको आमतौर पर गर्दन का दर्द, गले में खराश, बुखार, ठंड लगना और कोई कोमल थायरॉयड हो सकता है। थायरॉइड हार्मोन की सूजन के कारण शरीर में थायरॉइड हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे हाइपरथायरायडिज्म होता है। गर्भावस्था के बाद, कुछ महिलाओं में – 8% तक में – लिम्फोसाइटिक थायरॉयडिटिस नामक एक कंडीशन विकसित हो सकता है, जहाँ लिम्फोसाइट्स नामक सफेद रक्त कोशिकाएँ ग्रंथियों के ऊतकों में जमा हो जाती हैं। थायरॉइडाइटिस का निदान ब्लड टेस्ट और थायरॉइड स्कैन से किया जा सकता है। आयुशक्ति के प्राकृतिक उपचार प्लान डॉक्टर के पर्चे की दवाएँ लिए बिना थायरॉइड फंक्शंस को संतुलित करने में मदद करती है।

क्या ज्यादा नमक से थायरॉइड की समस्या हो सकती है?

थायरॉइड हार्मोन का एक आवश्यक घटक आयोडीन है। आयोडीन युक्त नमक के अत्यधिक उपयोग से हाइपोथायरायडिज्म या हाइपरथायरायडिज्म हो सकता है। कुछ दवाओं में बड़ी मात्रा में आयोडीन भी होता है जो थायरॉइड के फंक्शन में गड़बड़ी पैदा कर सकता है।

थायरॉइड नोड्यूल क्या होता है?

थायरॉइड नोड्यूल ठोस या द्रव से भरी गांठें होती हैं जो आपके थायरॉयड के भीतर बनती हैं, आपकी गर्दन के बेस पर, आपकी छाती के ठीक ऊपर एक छोटी ग्रंथि के रूप में स्थित होती है। नोड्यूल के कारण दर्द या परेशानी बहुत कम ही मामलों में हो सकती है। कुछ गांठें इतनी बड़ी हो जाती हैं कि उन्हें अक्सर आपकी गर्दन के बेस पर सूजन के रूप में देखा या महसूस किया जा सकता है। इससे दम फूलने की तकलीफ या निगलने में कठिनाई हो सकती है।

कुछ मामलों में, थायरॉइड नोड्यूल अतिरिक्त थायरोक्सिन का उत्पादन करते हैं, जो आपके थायरॉयड ग्रंथि द्वारा स्रावित होने वाला एक हार्मोन है। अतिरिक्त थायरोक्सिन हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण पैदा कर सकता है जैसे कि बिना कारण वजन घटना, बहुत ज्यादा पसीना निकलना, कंपकंपी, तेजी से दिल धड़कना इत्यादि। आयुशक्ति का प्राकृतिक “थायरोटॉक्स” उपचार प्रोग्राम प्रभावी रूप से थायरॉइड नोड्यूल से राहत देता है और इसके क्रोनिक होने से पहले सामान्य फंक्शंस को बहाल करता है।

क्या कोई आहार है जो थायरॉइड की समस्या में मदद करता है?

आयुशक्ति के विशेषज्ञ डॉक्टर, परामर्श के बाद, आपको आपके लायक “थायरोटॉक्स” प्रोग्राम की सलाह देते हैं जिसमें कुछ घरेलू उपचार और हर्बल सप्लीमेंट के साथ आपकी थायरॉइड समस्याओं के लिए एक विशिष्ट आहार योजना शामिल होती है। आयुशक्ति डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक करें।

थायरॉइड की समस्याओं के लिए आयुशक्ति हर्बल सप्लीमेंट क्या हैं?

थायरॉइड की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए आयुशक्ति में प्रभावी हर्बल सप्लीमेंट हैं। चयापचय के लिए सुहृदय (Suhruday) टैबलेट, इम्यून फंक्शंस के लिए ओजस (Ojas) टैबलेट, सूजन और नोड्युल्स को कम करने के लिए ग्रंथिहार (Granthihar) टैबलेट।

ये जड़ी-बूटियाँ, एक कॉम्बिनेशन के रूप में, मूल कारण को दूर करने में मदद करती हैं और लंबे समय तक चलने वाले स्वस्थ थायरॉइड फंक्शंस को तेजी से बहाल करती हैं। कुछ ही महीनों में, अधिकांश लोग खुद में भरपूर एनर्जी पाते हैं, उनके दिल का तेजी से धड़कना कम हो जाता है, सूजन में कमी आती है, पाचन अच्छा होता है, भावनाएँ स्थिर होती हैं, और मूड स्विंग नहीं होता।

"थायरोटॉक्स" प्रोग्राम थायरॉइड फंक्शंस को बेहतर बनाने में कैसे मदद करता है?

“थायरोटॉक्स” डिटॉक्स प्रोग्राम आपके लायक आहार, घरेलू उपचार, हर्बल सप्लीमेंट, डिटॉक्स थेरेपी और मर्म (आयुर्वेदिक दबाव बिंदु) को शामिल करता है। यह कॉम्बिनेशन चयापचय में तेजी से सुधार करने, हार्मोन को संतुलित करने, सूजन को कम करने और समग्र ऊर्जा स्तरों में सुधार करने में मदद करता है।

इस प्रकार, आप खुशी महसूस करते हैं, कोई कमजोरी नहीं होती, मन की स्थिति संतुलित और स्थिर होती है, और नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है। आगे जड़ी-बूटियों का सेवन साथ जारी रखने से उपचार बंद करने के बाद भी लंबे समय तक सामान्य थायरॉइड फंक्शंस और संपूर्ण स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद मिलती है।

वास्तविक लोग। वास्तविक स्वास्थ्य लाभ

 डॉक्टरों की टीम उत्कृष्ट है, वे हमें बहुत सहज महसूस कराते हैं और बड़े धैर्य से हमारी बात सुनते हैं। हमारे स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दिखाने के लिए एक बहुत ही शांत और सकून देने वाली जगह जिसे अनुभवी डॉक्टरों द्वारा सुलझाया जाता है।
–हीना लालन

 जहाँ तक ​​मेरी सेहत का सवाल है, मैं हमेशा किसी भी समस्या के लिए आयुशक्ति पर निर्भर रही हूँ। मैं न केवल ठीक हुई, बल्कि उनकी दवाओं और डॉक्टरों की सलाह लेने के बाद मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा।
–उज्ज्वला दिघे

 मैंने इसके बारे में एक दोस्त से सुना, लेकिन यह एक सच में एक आशीर्वाद की तरह था, जहाँ डॉक्टर आपकी सभी समस्याओं को सुनते हैं, मदद करने की पूरी कोशिश करते हैं। बहुत – बहुत धन्यवाद।
–लौरा रॉड्रिक्स

Close
Close
Close

My Cart

Shopping cart is empty!

Continue Shopping

This will close in 0 seconds

    Treatment Form


    This field is required


    This field is required


    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required



    This field is required


    This field is required



    This field is required

    Fees - 300Rs


    This will close in 0 seconds

    Translate »
    loader

    Treatments: Arthritis | Asthma | Weight Loss | Skin | Infertility | Acidity | Diabetes | Stress | PCOS - PCOD | Hairfall | Knee Pain | Blood pressure | Thyroid | Headache | Cold Cough | Child problems

     

    E-books: Arthritis | PCOD | Immunity | Psoriasis | Asthma | Stress | Acidity | Thyroid | Charaka Samhita | Ashtanga HridayaFrozen ShoulderObesity

     

    Research Papers: Immunity | Asthma | Diabetes | Arthritis | Infertility | Diffuse Axonal Injury | Hypertension

     

    Blogs: A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y | Z

     

    Ayushakti.com © 2024. All Rights Reserved.